Culture गुमनाम होती जिंदगी में बेनाम होते रिश्ते

गुमनाम होती जिंदगी में बेनाम होते रिश्ते

5

कुछ रिश्तों को खुदा के द्वारा तय किया  और कुछ को पैसे, रिश्तों की भीड़ में उन लोगों को हमेशा महत्व दीजिए, जो आपको दिल से मानते हैं.क्योंकि दिल से मानने वाले लोग कभी कभार हीं मिलते हैं.

  • दिल के रिश्ते हीं हमारी ताकत बन सकते हैं, खोखले रिश्ते हमारी कमजोरी हीं बनते हैं.
  • खोखले रिश्ते जरूरतों को तो पूरा कर सकते हैं, लेकिन हमें संतुष्टि नहीं दे सकते हैं.
  • अगर कोई रिश्ता कमजोरी बन जाए, तो ऐसे रिश्ते को तोड़ देना हीं बेहतर होता है.
  • जो मुश्किलों में साथ दे, वही रिश्ते सच्चे होते हैं.
  • रिश्तों के खत्म होने की दो हीं वजहें होती है, 1. इर्ष्या 2. गलतफहमी.
  • कुछ रिश्तों का नाम नहीं होता है, क्योंकि ऐसे रिश्ते…. रिश्तों से बड़े हो जाते हैं.
  • जब कोई और विकल्प न बचे तभी किसी रिश्ते को हमेशा के लिए तोड़िए.
  • जिस रिश्ते को आप लम्बे समय तक निभाना चाहते हों, उस रिश्ते में किसी और को मध्यस्थ न बनाएँ.
  • रिश्तों को अच्छे न निभाया जाए, तो रिश्ते बोझ बन जाते हैं.
  • हर रिश्ते की एक मर्यादा होती है, और हमें उस मर्यादा को कभी नहीं तोड़ना चाहिए. क्योंकि जब रिश्तों की मर्यादा टूट जाती है, तो बहुत कुछ खत्म हो जाता है.
  • जब आपकी गलती हो तो गलती मानिये, इससे रिश्ते जल्दी नहीं टूटेंगे.
  • हम जिन लोगों के साथ ज्यादा Contact में नहीं रहते हैं, वैसे रिश्ते नाम के रिश्ते रह जाते हैं.
  • लोग उन लोगों के सामने झुक जाते हैं, जिनसे वे रिश्ते निभाना चाहते हैं.
  • रिश्ते कैसे निभाए जाते हैं ये बच्चों से सीखिए, जो आपस में लड़ने के थोड़ी देर बाद फिर दोस्त बना जाते हैं.
  • किसी भी रिश्ते को एकतरफा नहीं निभाया जा सकता है.
  • आपको तब भी निराश नहीं होना चाहिए, जब आपने अपना सबसे प्रिय रिश्ता खो दिया हो.
  • रिश्ते जोड़ने या तोड़ने से पहले हजार बार सोच लेना चाहिए.
  • किसी भी रिश्तेदार या दोस्त पर भी हद से ज्यादा विश्वास नहीं करना चाहिए.
  • किसी भी रिश्ते को टिकने के लिए दो व्यक्तियों के मन में एक-दूसरे के प्रति सम्मान होना चाहिए.
mm
मेरी सोच है पत्रकारिता स्वतंत्र होनी चाहिए। मै कड़वा लिखता हूं क्यों कि सच लिखता हूँ। मेरे लेखों पर फर्जी सेकुलर भक्तो की भावना आहत हो सकती है। ऐसे लोगो को मेरे पोस्ट से दूर रहने की सलाह दी जाती है। मै आईना हूँ दिखाऊंगा दाग चेहरों के। जिसे नागवार लगे सामने से हट जाये।