नोटबंदी से लोग परेशांन थे और देश का PM विदेश में भाषण देकर ताली बजाते हुए लोगों की परेशानियों का मज़ाक उड़ा रहा था…..ये ग़लत हुआ मोदी जी इसलिए धरती माँ काँप गईं…..

147 लोग आपके मनमाने रवैये से मौत के मुह में चले गए,कितने परिवार अनाथ हो गये….ये ग़लत हुआ , इसलिए धरती काँपी मोदी जी, इसलिए भूकंप आया…

जब गाय के नाम पर गरीबों पर कोड़े बरसाए गए,जब गाय के नाम पर किसी को मौत के घाट उतार दिया गया, जब खाली ट्रेन पानी के नाम पर भेजी गई, जब किसान आत्महत्या किया तो लव अफ़ेयर बताया गया, जब सैनिक अपने लिए दाल-रोटी माँगा तो उसे नौकरी से निकाल दिया गया, जब एक छात्र को आत्महत्या पर मजबूर किया गया और वो मर गया, जब एक माँ दर-दर अपने बेटे के लिए भटक रही और उसके बेटे को अभी तक ढूंडा नहीं जा सका……ये सब ग़लत हो रहा ,इसलिए धरती काँपी और भूकंप आया मोदी जी।

काश! आप भाषण को विकास ना समझते, काश! आप एक PM जैसा व्योहार करते, काश! आपकी नियत में जुमला ना होता……

This Article is Authoredby Mousmi Pandey ji

Comments