Authors Posts by najarul25

najarul25

mm
5 POSTS 0 COMMENTS
मेरी सोच है पत्रकारिता स्वतंत्र होनी चाहिए। मै कड़वा लिखता हूं क्यों कि सच लिखता हूँ। मेरे लेखों पर फर्जी सेकुलर भक्तो की भावना आहत हो सकती है। ऐसे लोगो को मेरे पोस्ट से दूर रहने की सलाह दी जाती है। मै आईना हूँ दिखाऊंगा दाग चेहरों के। जिसे नागवार लगे सामने से हट जाये।

एक गाथा “साहस, संघर्ष और सफलता की”

एक गाथा "साहस, संघर्ष और सफलता की" ये कहानी है उन दो वीरांगनाओ की और कुछ जांबाजों की जिन्होंने साहस किया संघर्ष करने का और गुरमीत राम रहीम इंसा के साम्राज्य का सर्वनाश कर दिया। एक ऐसे शैतान के खिलाफ लड़ा जिसका एक साम्रज्य था,...

स्वतंत्र भारत मे दंगो के दाग और सियासत

"मै आईना हूं दिखाऊंगा दाग चेहरों के" "जिसे नागवार लगे सामने से हट जाए" 15 अगस्त 1947 को भारत स्वतंत्र हुआ। देश का यह स्वतन्त्रता संग्राम एक किसी भी एक विशेष वर्ग के प्रयासों से सफल नहीं हुआ।स्वतंत्रा की यज्ञ में प्रत्येक धर्म प्रत्येक वर्ग के...

सच का सामना

 यह है संघ का सच असीमानंद का घिनौना कबूलनामा   मैं अपने माताजी, पिताजी और भाइयों के साथ कुमारपुर गांव में रहता था। हमारे गांव में स्वामी रामकृष्ण परमहंस का जन्म हुआ था। वहां रामकृष्ण मिशन का एक केन्द्र भी है। बचपन से ही मैं रामकृष्ण...

जब अपने अपनों का साथ छोड़ दे।

आज की जिंदगी में बढ़ती व्यस्तता और जिंदगी में सफलता पाने की लालच ने जिंदगी के मायने बदल दिए है। अगर आप सफल है तो आपको अनेको मित्र मिल जायेंगे पर अगर आप अपनी जिंदगी में कभी असफल होते है तो वही मित्र...

गुमनाम होती जिंदगी में बेनाम होते रिश्ते

कुछ रिश्तों को खुदा के द्वारा तय किया  और कुछ को पैसे, रिश्तों की भीड़ में उन लोगों को हमेशा महत्व दीजिए, जो आपको दिल से मानते हैं.क्योंकि दिल से मानने वाले लोग कभी कभार हीं मिलते हैं. दिल के रिश्ते हीं हमारी ताकत...