3 महीने पहले अझय कुमार ने एक एप लांच किया था “भारत के वीर” जिसमे देश के लोगो से कहा गया कि आप इसपर डोनेशन दे और यह पैसा सेना मे मारे गए सैनिको के परिवारो की मदद के लिए इस्तेमाल किया जाएगा । देखने मे यह बहुत सराहनीय कदम है और काफी लोगो ने चंदा भी दिया है।

आइये अब आपको कुछ बताते है । आपको मालूम होगा की अझय कुमार ने कनाडा की नागरिकता ले ली है । आखिर कोई भारतीय भारत की नागरिकता छोड़ विदेश की नागरिकता क्यो लेता है? ताकी विदेश मे कमाये हुए पैसो पर भारत मे टैक्स ना देना पड़े । जो व्यक्ति देश मे टैक्स ना देना पड़े इसके लिए देश की नागरिकता छोड़ सकता है, वह व्यक्ति आज देश के लोगो को डोनेशन देने का ज्ञान दे रहा है? देश के सैनिको और सुरझा का देखरेख टैक्स के पैसे से ही तो होता है, तो फिर अझय कुमार अपना टैक्स तो बचा रहे है और दुसरो को डोनेशन देने को बोल रहे है? वाह!

आखिर एक व्यक्ति सेना मे अपनी जान की परवाह किए बिना क्यो जाता है? क्योंकि वह देश की सेवा करना चाहता है और उसे यह भरोसा रहता है कि कुछ हो जाने पर सरकार उसके परिवार का देखभाल करेगी । क्या सेना मे कोई व्यक्ति इसलिए जाता है ताकि अगर वह शहीद हो गया तो उसकाे परिवार का गुजारा किसी के दान किए हुए पैसो पर हो ?

शहीद सैनिको के परिवार के देखभाल की जिम्मेदारी सरकार की है और अगर इसके लिए सरकार के पास पैसा कम पड़ रहा है तो एक-दो पर्सेन्ट टैक्स और बढा दो जो देश के लोग खुशी खुशी दे देगे ।

लेकिन दुख की बात यह है कि जहा मौजूदा सरकार ने पिछले तीन साल मे सर्विस टैक्स को 12.36% से बढाकर 18% GST कर दिया है, फिर भी शहीद सैनिको के परिवार का सही से देखभाल नही किया जा रहा है । अच्छा तो यह होता अगर अझय कुमार सरकार पर दबाव डालते की शहीद परिवार का सही से देखभाल हो नाकी दान का पैसा से उन्हे जीने पर मजबूर करे। सरकार अपनी जिम्मेदारी को न भूले और ऐसे हथकंडे अपना कर देश का ध्यान न भटकाये । शहीद परिवार की देखभाल करना पूरी तरह सरकार की जिम्मेदारी है और नागरिको की जिम्मेदारी है कि वह सही सही अपना टैक्स जमा करे। धन्यवाद ।।

This Article is authored by Navin Khaitan, Chartered Accountant and a Political observer

Comments

SHARE
Staunch Indian CA Student Interested in Political RTs are not endorsement