ये लेख लिखने की प्रेरणा मुझे एक राजनैतिक घटना और एक तस्वीर से मिली – तस्वीर को समझने के लिए , पहले घटना और उससे जुड़े राजनैतिक विश्लेषण को पढिये – अंत में तस्वीर देखोगे तो हसी जरुर आयेगी .
बात 2015 की है जब हेमन्त बिस्वा शर्मा राहुल गांधी से असम में विधानसभा चुनाव और नेतृत्व परिवर्तन के विषय पर मुलाकात करने गए थे , बताया ये जाता है कि इस राजनैतिक व्याख्यान और वार्ता के दौरान एक पालतू कुत्ता उनके सभा कक्ष में आता है और राहुल गांधी अपने पालतू कुत्ते को बिस्कुट खिलाने में ज्यादा व्यस्त हो जाते है औऱ उन्हें सिर्फ दो मिनट में हेमन्त बिस्वा शर्मा को अपना व्याख्यान पूरा करने को बोला जाता है ।।बताया ये भी जाता है इस मुलाकात के दौरान असम काँग्रेस के क्षेत्रीय नेताओं के बीच चल रहा राजनैतिक गृह युद्ध खुल कर सामने आ गया और आरोपों और प्रत्यारोपो का दौर शुरू हो गया । इन घटनाओ से और राहुल गांधी के अपरिपक्व व्यवहार से आहत होकर हेमन्त बिस्वा शर्मा असम कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हो गए और असम में भाजपा की जीत के सूत्रधार बने.
परन्तु इन सभी विवादों को परे रख हमे थोड़ा सा इतिहास कुरेद लेना चाहिए और वो इतिहास आपको याद दिलाएगा की किस तरह भाजपा ने “लुइस बर्गर रिश्वत कांड” में तत्कालीन कांग्रेस नेता ओर तत्कालीन असम सरकार के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा पर भ्रष्टाचार के आरोपो की झड़ी लगा दी थी ।।भ्रष्टाचार से जुड़े इन सभी विवादों के बीच गोगई सरकार ने 7 अगस्त 2015 को सीआईडी जांच के आदेश दिये परन्तु “बिस्वा के भ्रष्टाचार” ने राष्ट्रवादी भगवा चोगा स्वीकार किया और इन सभी विवादों को “बाईं पास” करते हुए वो 23 अगस्त 2015 को “भ्रष्टाचारी बिस्वा” से “भाजपाई बिस्वा” हो गए और असम विधानसभा में भाजपाई विजय रथ के संचालक बने और सफल रहे.
परन्तु इतिहास शायद अपने आपको फिर से दोहरा रहा है ,”भाजपाई बिस्वा” के भगवा दामन पर पुराने दाग फिर से प्रकट हो रहे है , हेमंता बिस्वा शर्मा को हाई कोर्ट से झटका लगा है .”लुइस बर्गर रिश्वत कांड” में हाई कोर्ट ने सीबीआई जाँच के आदेश दिए हैं । येही नही जांच में ढिलाई बरतने के लिए सीआईडी को हाई कोर्ट ने फटकार भी लगाई है ।।याद रखियेगा की 7 अगस्त 2015 को तत्कालीन गोगोई सरकार ने दिए थे हेमंत बिस्वा शर्मा के खिलाफ़ सीआईडी जांच के आदेश औऱ 23 अगस्त 2015 को कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हो गए थे हेमंत बिस्वा शर्मा .
अच्छा हुआ राहुल गांधी उस समय अपने पालतू कुत्ते को बिस्कुट खिलाने में व्यस्त हो गए , क्योंकि कांग्रेस के बहुत से क्षेत्रीय नेता “सत्ता का बिस्कुट” किसी भी परिस्थिति में हासिल करना चाहते हैं ,संवैधानिक पदों पर रहते हुए और पार्टी के पदों पर रहते हुए ये तथाकथित “शेत्रिय नेता” पार्टी और सरकार के संसाधनो का दरुपयोग तो करते ही हैं , भ्रष्टाचार के बीज बोकर अपनी जेब भरने के लिए खेती बाड़ी भी करते है और जब एहसास होता है की गाड़ी दल दल में फस चुकी है तो राहुल गाँधी को राजनैतिक रूप से “पप्पू “ घोषित करने की कहानियाँ गड़ते हैं और मौका मिलते है पार्टी के नेतृत्व पर कीचड़ उछाल , तड़ीपार का दामन थाम लेते हैं .
अगर हेमंत बिसवा शर्मा की तथाकथित “कुत्ते के बिस्कुट “ वाली कहानी में इनती ही विश्वसनीयता है , तो राहुल गाँधी द्वारा घर वापसी के लिए भेजे गये निवेदन संदेश अर्थात SMS और उसके जवाब में भेजे गये संदेश (its too late ..) का कोई तो स्क्रीन शॉट या सबूत मीडिया में उजागर किया होता . आखिरकार हेमंत बिसवा शर्मा के स्वाभिमान पर चोट लगी थी , कहानी की विश्वसनीयता पर अगर सवाल खड़ा होगा तो कहीं बिसवा के स्वाभिमान की तुलना लोग नितीश कुमार अवसरवादी स्वाभिमान और अवसरवादी अंतरात्मा से ना करना शुरू कर दे .
आश्चर्य की बात तो ये है की जो “तथाकथित आरोपित शेत्रिय नेता” कांग्रेस छोड़ भाजपा में जाते हैं ,ये “तथाकथित आरोपित शेत्रिय नेता” एक ऐसे राजनैतिक दल का दामन कैसे थाम लेते हो जो कुछ दिन पहले तक इनके उपर भ्रष्टाचार का आरोप लगा रहा थे , इनके खिलाफ जांच आयोग की मांग कर रहे थे पर जैसे ही ये “तथाकथित आरोपित शेत्रिय नेता” पाला बदलते है तो मानो वो सारे आरोप, वो सारी जाँच आयोग की मांगे और तथाकथित “मीडिया में हो रही इस विषय पर चर्चा “ भी ऐसे ही लापता हो जाती हैं जैसे “मिस्टर इंडिया” गायब होत था या मानो “भगवा राष्ट्रवाद की आड़ में उनका कोई नैतिक शुद्धिकरण “ हुआ हो.
असम चुनावों से ठीक साल भर पहले तक हेमंत कुमार बिस्वा पर सारदा घोटाले और “लुइस बर्गर रिश्वत कांड” के आरोपों से घिर चुके थे .जरा याद कीजिये की किस तरह मीडिया ने ,खास तौर पर अर्नब गोस्वामी और सुधीर चौधरी जैसे तथाकथित राष्ट्रवादी पत्रकारों ने सारदा घोटाले और “लुइस बर्गर रिश्वत कांड” को मीडिया में उछाला था , पर जैसे ही “भ्रष्टाचारी बिसवा “ “भाजपाई बिसवा” हो गये तो तथा कथित राष्ट्रवादी मीडिया हेमंत कुमार बिसवा पर लगे सभी आरोपों वैसे ही भूल गया जैसे सर पर लगी चोट से यादाश्त चली जाती है.
कुछ इतनी ही दिलचस्प बहुगुणा परिवार की अवसरवादी राजनीती की कहानी है ,जो राहुल गाँधी को अपरिपक्व अर्थात पप्पू बोलने से शुरू हुई थी . जहाँ तक बात रही बहुगुणा परिवार की तो विजय बहुगुणा पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप अब भाजपा को नही दिखाई देते क्यूंकि उत्तराखंड और उत्तप्रदेश में उनका पूरा परिवार भाजपा में अपना विलय कर चुका है और “विजय” रथ पर सवार है . जरा याद कीजिये वो दिन जब भाजपा ने बहुगुणा परिवार पर भ्रष्टाचार के आरोपों की बौछार कर दी थी और आज वो ही बहुगुणा परिवार उत्तराखंड की भाजपा इकाई में गृहयुद्ध की परिस्तिथियाँ पैदा कर रहे हैं .उत्तराखंड में टकराव भाजपाइयों और कांग्रेस की प्रष्टभूमि से आये भाजपाइयों में हो बढ़ता जा रहा है और भीतरघात की भी बू आ रही है। जरा सोचिये अब राष्ट्रवादी मीडिया को विजय बहुगुणा के शासन काल के दौरान लगे भ्रष्टाचार के आरोप नही दिखाई देते और ना ही इस राष्ट्रवादी मीडिया को ये दिखाई दे रहा है की किस तरह विजय बहुगुणा उत्तराखंड भाजपा में गुटबाजी फैला कर “बगावत “ के बीज बो रहे है , ऐसी हरकते वो कांग्रेस में थे जब भी करते थे और अब भाजपा में भी अपने विघटनकारी व्यवहार से भाजपा को तोड़ने में लगे है.
निश्चित तौर पर इस कांग्रेस युक्त भाजपा में आस्तीन के साँप बहुत हैं जो कांग्रेस की प्रष्टभूमि से पधारे हैं . किसमत की धनी है कांग्रेस की ऐसे अवसरवादी आस्तीन के सांप , राहुल गाँधी की अपरिपक्व राजननीति अर्थार्त पप्पू राजनीती के चलते भाजपा में चले गये . इस अपरिपक्व राजनीति का परिणाम सिर्फ चुनावी हार है , तो ये हार हमे स्वीकार है ,क्यूंकि येही चुनावी हार उन समर्पित कांग्रेस कार्यकर्ताओं को जनता के बीच अपनी विचारधारा को फिर से स्थापति करने का मौका फिर से देगी जो गाँधी , नेहरु , पटेल और बोस के अथक प्रयासों से स्थापित हुई थी . समय लगेगा, सुदृढ़ इच्छा शक्ति की आवश्यकता है परन्तु आस्तीन के साँप से युक्त विजय रथ पर कभी सवार ना हो .ना रथ बचेगा ,ना सवार .
2016 में हुए असम विधानसभा चुनावो पर अगर हम नजर डाले तो कुछ दिलचस्प तथ्य सामने आते हैं जो कांग्रेस के लिए लाभकारी साबित हो सकते हैं और इस तथ्य को भी साबित करते हैं की हेमंत बिसवा शर्मा जैसे आस्तीन के साँप भी हमारी बढ़त नही रोक सकते,अगर हम संगठित हो कर चले और एक अच्छा चुनावी प्रबन्धन करे तो आंकड़े भी इसी बात की तरफ इशारा करते हैं की हम सत्ता में फिर से वापसी कर सकते हैं और भाजपा का विजय रथ रोक सकते हैं .
सन 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को असम में मिले थे कुल 55,07,152 वोट,जो कुल पड़े वोटो का 36.9 प्रतिशत था. वहीँ 2016 के विधानसभा चुनाव में भाजपा का मिले थे कुल 49,92,185 वोट जो कुल पड़े वोटो का 29.8 प्रतिशत थे , यानी की तकरीबन 5 लाख 15 हज़ार वोटो का नुकसान सन 2014 के लोकसभा चुनावो के बाद भाजपा को हुआ .
वहीँ कांग्रेस की बात करे तो लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को असम में मिले 44,67,295 वोट,जो की कुल पड़े वोटो का 29.9 प्रतिशत था और वहीँ 2016 के विधानसभा चुनाव में मिले 52,38,655 वोट,जो कुल पड़े वोटो का 31 प्रतिशत था यानी की 7 लाख 71 हज़ार से भी अधिक वोटो का लाभ कांग्रेस को हुआ सन 2014 के लोकसभा चुनावों के नुकसान के बाद .
भाजपा असम में अपने दम पर नही जीती है, जीत सिर्फ अन्य सहयोगी दलों के सहयोग से मिली है जिनका वोट प्रतिशत कुल पड़े वोट का 12 प्रतिशत रहा . जिसकी बदौलत भाजपा असम में सत्ता का सूरज देख पाई . अगर इसी प्रकार का गठबंधन कांग्रेस अगर All India United Democratic Front (AIUDF) के साथ (जिसका वोट प्रतिशत 13 प्रतिशत रहा) असम में कर लेती तो शायद आज असम राज्य में सत्ता में कांग्रेस होती , परन्तु AIUDF एक इस्लामिक दक्षिणपंथी राजनैतिक सन्गठन है , जिसकी समाजिक सम्बन्ध कट्टरपंथी और धार्मिक इलामिक संगठनो के साथ काफी गहरे हैं और विवादास्प्क भी हैं और ऐसे किसी भी दल के साथ किसी भी प्रकार राजनैतिक गठबंधन पार्टी की मूलभूत विचारधारा के खिलाफ होता और पार्टी की छवि पर नकरात्मक असर भी डालता है. हालाँकि पाला बदलने में महारत हासिल कर चुके नितीश कुमार इस तरह के “ध्रुवीकृत महा-गठबंधन” का सुझाव भी दे चुके थे. शायद एक अवसरवादी ही ऐसे अवसरवादी गठबंधन का सुझाव दे सकता है ,जिसके चलते राज्य का समाजिक ताना बाना बिगाड़ने में भाजपा को देरी नही लगती .
इन सभी तथ्यों का निचोड़ येही है की अगर संगठित हो कर चलें और “एकला चालो रे “ की नीति पर भी चला जाये तो असम में कांग्रेस फिर से सत्ता में स्थापित हो सकती है , पर राज्य में कांग्रेस के नेत्तृत्व को लेकर अब हमे गम्भीर होना होगा क्यूंकि तरुण गोगोई के बाद कांग्रेस का असम में नेतृत्व कौन करेगा ये एक सवाल जिसका जवाब हमे जल्द ही ढूंढना होगा .
बरहाल असम का चुनावी परिणाम कैसा भी रहा हो ,“आस्तीन का साँप “ अति घातक भी होता है, अति महत्वकांशी भी होता है और अति अवसरवादी भी ,अगर किसी पालतू कुत्ते के बिस्कुट खाने भर से दुखी हो कर ऐसे “आस्तीन का साँप” पार्टी छोड़ कर जा सकते हैं तो ऐसी अपरिपक्व राजनीती को सलाम जो आस्तीन के साँप को बाहर का रस्ता दिखा सके . मुबारक हो भाजपा तुम्हे ये आस्तीन के साँप , गलती से भी ऐसे अवसरवादियों पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के जांच मत करवा देना क्यूंकि जो दाग कांग्रेस के दामन पर लगे थे वो कहीं मोदी जी के दामन पर स्थानांतरित ना हो जाये.
अंत में इस लेख के साथ जुड़ी ये फोटो भी देखिएगा जिसमे एक “आस्तीन का साँप ” एक पालतू कुत्ते का रूप धारण करके मोदी जी की बिस्कुट वाली प्लेट से बिस्कुट लेने की तैयारी में है, पर मोदी जी को कुत्ते के पिल्लों की मौत पर दुःख होता है ये भी याद रखियेगा .

आप से निवेदन रहेगा की कृपया इस दृश्य को हेमंत बिसवा शर्मा , बहुगुणा परिवार और नितीश कुमार के राजनैतिक चरित्र से जोड़ कर ना देखे . ये कहीं कोई इनके दुर्लभ राजनैतिक चरित्र के लिए राहुल गाँधी को दोषी ना करार दे दे .

और कहीं ऐसे सवाल पूछ कर आपका भी कहीं ”पप्पू“ की श्रेंणी में नामांकन ना हो जाये .
article first published at – https://chaitanya-ganrajya.blogspot.in/2017/09/blog-post.html

Comments

SHARE