राजनीति में परिवारवाद की घोर विरोधी रही भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव मे बड़ा यु-टर्न लेते हुए बड़े नेताओं के रिश्तेदारों को ख़ूब टिकट बाटी हैं । यही नहीं दूसरे दलो से आये दल बदलु मौक़ापरस्त नेताओं को भी मायूस नहीं किया ।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की हाल मे परिवारवाद को बढ़ावा नहीं देने की अपील को दर किनार करते हुए रिश्तेदारों की ख़ूब खूसामद की गयी । और तो और दल बदलू नेताओं का भी ख़ूब बोल बाला रहा ।

केन्द्र गृह मंत्री राजनाथ सिंह के पुत्र पंकज सिंह को नोएडा से टिकट दिया गया हैं । भाजपा नेता और सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को कैराना से प्रत्याशी के तौर पर उतरा है ।

पूर्व गृह राज्य मंत्री रामलाल राही के पुत्र सुरेश राही हरगांव(सु) सीट से टिकेट पाने में सफल रहे ।

पार्टी के गद्दावार नेता लाल जी टंडन के पुत्र आशुतोष टंडन को लखनऊ पूर्व से प्रत्यासी घोसित किया गया है ।

पूर्व मंत्री प्रेमलता कटारिया की बेटी नीलिमा कटारिया को कल्याणपुर सीट से सीट दे कर भाजपा ने परिवार वाद पर अपनी मुहर लगादी है ।

उधर बसपा छोड़कर भाजपा में आने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य के बेटे उत्कर्ष मौर्य को ऊँचाहार सीट से प्रत्यासी बनाया गया है ।

कैसरगंज से सांसद बृजभूषण सिंह के बेटे प्रतिक भूषण गोंडा से टिकट पाने में सफल रहे ।

यहाँ तक की राजस्थान के राज्यपाल की बहू प्रेमलता सिंह और पौत्र संदीप सिंह को भी टिकट दिया है ।

सपा से दल बदल कर आये विधायक रहे कुलदीप सेंगर, बसपा के गद्दावार नेता रहे बृजेश पाठक, कांग्रेस से आयी रीता बहुगुणा जोशी भी टिकट दिया गया है ।

उधर समाजवादी व्यापार सभा के पूर्व प्रदेश अध्य्क्ष वेद प्रकाश गुप्ता, कांग्रेस , बसपा, और सपा में रहे शेरबहादुर सिंह के रिस्तेदारो को भी टिकट मिल ही गयी ।

२०१२ में कांग्रेस के विधायक रहे संजय जैस्वाल इस बार भाजपा से मैदान में उतरेंगे ! इसके अलावा बिल्हौर, रानिया और लखनऊ उत्तर सीट से भी दाल बदलू को टिकट दिया गया है ।

अब तक घोसित ३०४ उमीदवारों में से करीब ३५ दाल बदलू को टिकट मिली है ।

देखने वाली बात यह है कि सिद्धांतो की बात काटने वाली पार्टी का आज अपने ही कथनी और करनी में फर्क आ गया है ।

नैतिकता के इस पड़ाव में देखने वाली बात यह होगी की भाजपा किस तरह अपनी यू-टर्न की आदत को छुपा कर मतदाताओं का दिल जीतने में कामयाब होगी ।

पर अगर हम समझने की कोशिस करे तो यह साफ़ दिख रहा है कि ऊत्तर प्रदेश के इन चुनाओ में भाजपा दल बदलू के अड्ड़ा साबित हुई है ।

अब प्रदेश की जनता इसको किस तरह से लेती है वो तो समय ही बताएगा ।

Comments

SHARE